digital marketing in lucknow

Half Way To Heaven -Shillong Tourism

भारत का सबसे ज्यादा वर्षा वाला स्थान चेरापूंजी मेघालय में ही है | मेघालय का भारत का स्कॉटलैंड भी कहा जाता है | शिलांग, गुवाहाटी से बेहद निकट है | मेघालय को भारत का स्कॉटलैंड कहा जाना मुझे अच्छा ठीक नही लगता क्योकि समानता देखना या तुलना करना किसी एक के महत्व को कम अकना है | यह बात की पुष्टि मुझे तब हुई जब मै मेघालय पंहुचा |

जनजाति – 

भारत के उत्तर पूर्व में बसे राज्यों में से एक मेघालय की आबादी करीब 22 लाख है | इस प्रदेश का एक तिहाई भाग वनों से ढाका हुआ है | यहाँ की ज्यादातर आबादी जनजाति है (लगभग 85 प्रतिशत) | खासी जनजाति के लोग इस प्रदेश की सबसे ज्यादा जनसंख्या का हिस्सा है 50 प्रतिशत खासी जनजाति की लोग रहते है |

आद्रता बहुत अधिक होने के कारण यहा वर्षा भी अधिक होती है | यह साल भर मोसम खुशनुमा बना ही रहता है | ज्यादा बारिस होने से यहा भूमि में बहुत नमी है जिसके कारण मेघालय में हरियाली साल भर बनी रहती है | सदा मेघो से अच्दित रहने के कारण इसे मेघालय कहा जाता है |

ऊमियम तालाब –

शिलांग से 20 किमी. की दुरी पर एक बहुत बड़ा तालाब है ऊमियम तालाब | इसे आम बोलचाल की भाषा में बड़ा पानी कहते है एक 221 वर्ग किमी. में फेला हुआ है | पर्यटन के साथ ही साथ इसका प्रयोग बिजली उत्पादन, बोटिंग और वाटर सपोर्ट के लिए भी किया जाता है |

रास्ते में कुछ ही दुरी में ‘वखाबा फाल्स’ है जो प्रदेश की खूबसूरती को चार चाँद लगा रहा है दिसम्बर माह में वर्षा कम होने के कारण प्रपात में पानी कुछ कम ही होता है, लेकिन द्रश्य बहुत ही मनोरम था

मवास्मी की गुफाए – 

इसी रास्ते में आगे आने में मवास्मी की गुफाए ही है | ये गुफाए चुने पत्थर से, प्रकति द्वारा बनी है | गुफाए पहाड़ो के बहुत नीचे तक है है लेकिन पर्यटकों की लिए 150 मीटर का ही मार्ग खुला है मेघालय में ज्यादातर आप को एंट्री टिकट लेना होगा, जो की काफी समान्य ही है

  • Top place in Guwahati | meghalaya tourism places to visit

©Picture credit Megtourism

कुछ अलग है शिलांग 

आम हिल स्टेशन से अलग छाप छोड़ने वाला शिलांग में भारतीय थल सेना और वायु सेना की छावनिया भी स्थित है | उत्तरीय पूर्वी राज्यों की सांस्कतिक झाकी को निकट से देखने की लिए आप डान बास्को म्यूजियम में जा सकते है | मेघालय राज्य का संग्रहालय भी यहा के इतिहास और परम्परा की जानकारी देता है

खानपान –

मेघालय में मूलरूप से चावल से ही निर्मित खाना ही बनता है, आप को अधिकांश जगह चावल ही खाने को मिलेगा

For website development contact us 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Data Analytics Course in Lucknow | Wordpress Training in Lucknow